Posts

Motivational

जीत आपकी होगी........

Image
Hi दोस्तों पहले तो आप सभी का धन्यवाद देना चाहता हूँ क्योंकि आपके सभी के प्यार के कारण www.chakhdey.blogspot.com ने बहुत ही कम समय मे काफी अच्छी growth की है।
            अब ज्यादा time न लेते हुए आज के टॉपिक पर आता हूँ दोस्तों  यदि सच्ची लगन हो   और उसके लिये कड़ी मेहनत की जाये तो जीत आपकी होगी कितनी भी मुश्किलें आयें फिर भी आप मैदान नही छोड़ते तो यकीन मानिए जीत आपकी ही होगी हालात बदसे बदतर हो जाएं सभी कहने लगे की तुझ से नही हो पायेगा तुमको भी लगने लगे की ये नही हो पायेगा फिर भी यदि आपके अंदर कहीं से आवाज आये की i do it तो यकीन मानिए जनाब आप बहुत special हो आप हजारों लाखों से अलग हो और जीत आपकी पक्की है । ऐसे ही एक बन्दे की real स्टोरी शेयर कर रहा हु जो लाखो युवाओं का real hero है........
             विजय शेखर .... paytm founder
Paytm के बारे मे तो आप सभी जानते होंगे पर इसके फाउंडर विजय शेखर शर्मा के बारे मे बहुत ही कम लोग जानते हैं । विजय शेखर शर्मा का जन्म 8 जुलाई 1973 को up के अलीगढ़ जिले के एक गाँव विजयगढ़ मे हुआ था। midle क्लास परिवार में जन्मे विजय शेखर के पिताजी एक ईमानदार स्कूल …

ध्यान की शक्ति- स्वामी विवेकानन्द

Image
दोस्तों आज मैं आपके साथ स्वामी विवेकानंद जी की जीवन की एक और प्रेणादायी कहानी शेयर कर रहा हूँ
      बात शिकागो की है एक बार विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ टहलते हुए एक नदी के किनारे पर पहुँचे वहाँ पर देखते हैं कि कुछ लोग नदी मे बहने वाले अंडे के छिलकों पर बंदूक से निशाना लगा रहे हैं पर बहते हुए अंडो के छिलके पर किसी से भी निशाना नही लग रहा स्वामी जी ने कुछ देर यह सब देखा पर किसी से भी नदी मे बहते हुए अंडे के छिलकों पर निशाना नही लगा सब काफी मेहनत कर रहे थे स्वामी विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ उन बन्दों के पास गए जो निशाना लगा रहे थे और बोले की वह भी निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने आश्चर्य से स्वामी विवेकानंद को देखा क्योंकि वो एक सन्यासी के भेष मे थे और स्वामी विवेकानंद से पूछा की उन्होंने पहले कभीं निशाना लगया है तो स्वामी जी ने मुस्कुराकर जबाब दिया की के उन्होंने पहले कभी भी बन्दूक तक नही चलायी पर आज निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने स्वामीजी को अपनी बन्दूक दे दी विवेकानन्दजी ने ध्यान से अंडो के छिलकों को देखा और एक के बाद एक 6 निशाने लग…

Swami vivekanand 1- motivational story in hindi

दोस्तों आप हो hindi motivational story website chakhdey.blogspot.com पर आप सभी स्वामी विवेकानंद के बारे में जानते ही हो हमारे देश के अग्रणी महापुरुषों मे स्वामी जी का नाम आता है उनके शिकागो मे दिए भाषण को हमेशा याद की जायेगा स्वामी विवेकानन्द युवा के रोल मॉडल है और मेरे भी मैं chakhdey पर उनके जीवन की सभी रोचक कहानियां पोस्ट की जाएंगी आज कृपया सभी पोस्ट पढ़े आज स्वामी विवेकानन्द के जीवन की बहुत ही मोटिवेशनल स्टोरी share कर रहा हूँ
                           भागो मत

एक बार स्वामी विवेकानन्द एक मंदिर मे पूजा करने के लिए जाते हैं पूजा कर के मंदिर से लौटने लगते हैं तो कुछ बन्दर उन्हें घेर लेते हैं स्वामी विवेकानंद आगे की और बढ़ने लगते है तो बन्दर भी उन पीछे दौड़ने लगते हैं स्वामी विवेकानंद भी भागने की सोचते है पर वहाँ का पुजारी चिल्लाकर बोलता है स्वामी विवेकानंद से की भागो मत खड़े रहो स्वामी विवेकानन्द पुजारी की बात सुनकर खड़े हो जाते हैं और बन्दरों को देखने लगते है अब बंदर जो स्वामी विवेकानंद के पीछे दौड़ रहे थे खड़े हो जाते हैं स्वामी विवेकानंद को निडर खड़े देखकर सभी बन्दर एक एक कर भाग जाते है…

जिद्द - motivaional कहानी हिंदी मे

शायद जिद्द ही होती जिससे कोई बड़ा पहाड़ खोदकर रास्ता बना देता है शायद जिद्द ही होती है कोई दुनियाँ मे मसहूर ताजमहल बना देता है शायद जिद्द ही होती जिससे एक गरीब लड़का scientist फिर राष्टपति बन जाता है शायद जिद्द ही होती जिससे कोई पेट्रोल पम्प पर काम करने वाला एक देश का बड़ा बिज़नस men बन जाता है दोस्तों आज में आपके साथ एक बहुत ही प्रेणादायी कहानी शेयर कर रहा हूँ
          जेक एक बहुत ही गरीब घर का लड़का था पापा एक मजदूर थे घर की condition ऐसी थी कि दो टाइम का खाना मिलना बहुत किस्मत की बात थी जेक की एक बहन थी जो 2nd standardपढ़ती थी जेक उससे एक साल छोटा था  वह अपनी बहन के साथ साथ स्कूल पहुँच जाया करता था एक दिन मास्टर जी ने सबसे अपनी जिंदगी का लक्ष्य बताने को कहा एक के बाद एक अपने aim को बता रहे थे मासूम जेक चुपचाप सब सुन रहा था सबसे last में msterji ने जेक को बुलाया और बोला कि तुम इस क्लास मे पढ़ते हो क्या जेक ने जबाब दिया नही मास्टर जी मे अपनी बहन के साथ आ जाता मेरी बहन पढ़ती है मास्टरजी ने फिर बोला की बताओ क्या बनना चाहते हो यह सुनकर क्लास के बच्चे बोल मास्टरजी ये तो मज़दूर ही बनेगा जेक चुपचा…

आत्मविश्वाश......a very motivational story

Image
Motivational kahani कहानी के अंतर्गत बहुत ही मोटिवेशनल स्टोरी share कर रहा हूँ यह मोटिवेशनल कहानी  आपकी जिंदगी परिवर्तित कर सकती है
              एक  बिजनिस मेन राम को अपने बिजनैस मे बहुत घाटा लग जाता है जिससे वह कर्ज मे बुरी तरह फंस जाता है उसके दोस्त famely सब उसका साथ छोड़ देते हैं ऐसी हालत मे जनरली लोग क्या सोचते है सोसाइड करने की वह भी यही सोचने लगता है कि उसकी जिंदगी बर्बाद हो गई अब उसके जीवन मे कुछ अच्छा नही हो सकता इतना सारा कर्ज वह कभी भी नही चूका सकता ऐसे ही बैठा पार्क मे यह सब सोचता है तभी सामने से एक व्यक्ति आता दिखाई देता है उस व्यक्ति के पहनावे से साफ लगता है कि वह कोई बहुत अमीर  आदमी है वह सीधा राम  के पास जाता है और उसकी उदासी का कारण पूछता है राम अपनी पूरी story उसे बताता है वह व्यक्ति थोड़ा गंभीर हो कर कुछ सोचता fir बोलता है कि वह इस शहर का सबसे अमीर आदमी है और अपनी जेब से एक blank check देता है और बोलता है कि तुमको जीतने भी रुपए की जरुरत हो भर लेना । एक साल बाद हम ऐसी पार्क मे मिलेंगे जब मेरे रुपए बापस कर देना इतना कहकर वह व्यक्ति चला जाता है।

                   राम…

Safalta ke niyam....by gaurav rajpoot

Image
सफलता के लिए कुछ महत्वपूर्ण बातों को follow करना होता है हर व्यक्ति जीवन मे सफल होना चाहता है पर कुछ ही लोग ऐसा कर पाते हैं क्योंकि bahut कम लोगो को सफलता के नियम पता होते है भौतिकी के नियम की तरह सफलता के भी नियम होते हैं आज जो सफल व्यक्ति हैं उन्होंने कहीं न कहीं न कहीं किसी न किसी रूप मे इन नियम को जरूर फॉलो किया है आज मै गौरव आप के साथ सफलता के नियम share कर रहा हूँ मुझे विश्वाश है कि ये नियम आप को सफलता प्राप्त करने मे महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगें।
1.law of aim----:  यह सफलता प्राप्त करने का सबसे महत्वपूर्ण law है एक minute सोचिये की आप को कहीं जाना है पर आप को ये नही पता की कहाँ जाना है तो आप कहाँ पहुँचोगे कहीं भी नहीं पहुँच पयोगे या फिर कहीं भी पहुँच जाओगे एक minute सोचिये की आप को delhi जाना है अब आप कहाँ पहुँचोगे genral सी बात है delhi ही पहुँचोगे यह छोटी सी बात है पर समझों तो यह बताती है कि यदि हमको पता हो की कहाँ जाना है तो हम निश्चित ही वही पहुँचते है जहां हमे जाना है आप को जानकर हैरानी होगी की 80-90% लोगों को यही नही पता होता कि उनको जिंदगी मे करना क्या है कहाँ पहुँचना है …

Help......is a great heart touching story

Image
आकाश ट्रैन से उतरता ह तब काफी घनघोर बारिस हो रही होती हैं।तेज हवाओं के साथ बारिस सारे शरीर मे कंपकपी पैदा कर रही थी।चरों तरफ अँधेरा छाया हुआ था।ऐसा प्रतीत हो रहा था कि आज सारे दिन बारिश होगी।आकाश एक सेल्समेन था।टारगेट पूरा करने की चिंता उसके चेहरे पर स्पष्ट दिखाई दे रही थी।वह जेब मे से पर्स निकाल कर देखता है।पर्स मे सिर्फ 500रूपये थे।आकाश को भूख कभी तेज लग चुकी थी।पर पर्स देखकर भूख दम तोड़ने लगी।मिडल क्लास लोगो को अपने लिए भी रूपये खर्च करने मे भी कितना सोचना होता है।इस बात को आकाश ही अच्छी तरह बता सकता था उस समय।कुछ समय में मन मे रूपये और भूख की जंग मे जीत रुपये की हुई।आकाश ने decide किया कि अभी सिर्फ चाय पी कर ही काम चलाएगा और रात को खाना।यह सोचकर आकाश सीधा होटल पर जाता है।चाय आर्डर करता है।चाय देने के लिए एक 12साल का लड़का आता है।उसका चेहरा लटका हुआ था।बचपन के खेलने कूदने के दिनों मे उसके हाथ मे चाय के कप पकड़ा दिए गए थे।वह आकाश के पास आता है और अपने मासूम चेहरे पर न चाहते हुए भी मुस्कान लाकर बोलता है साहब आपकी चाय जल्दी पी लीजिये नही तो ठंडी हो जायेगी।आकाश मुस्कुरा कर चाय ले लेता है।…

शिक्षक दिवस स्पेशल

Image
आज 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप मे मनाया जाता है।आज ही के दिन 1888 को महान शिक्षाविद सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म हुआ था।
बचपन--: सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म तमिलनाडु के तिरुतनी गांव मे 5 sitambar 1888 को हुआ।राधाकृष्णन को बचपन से ही किताब पढ़ने का बहुत शौक था।उनकी प्रारम्भिक शिक्षा क्रिश्चियन मिशनरी संस्था लुर्थन मिशन स्कूल मे हुई।स्कूल समय मे ही उन्होंने बाइबिल के महत्वपूर्ण अंश यद् कर लिए थे।जिसके लिए उन्हें विशिष्ट सम्मान से सम्मानित किया गया।अपनी collage education उन्होनें मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज से पूरी की।
सर्वपल्ली नाम का कारण-: राधाकृष्णन के पूर्वज सर्वपल्ली नामक गांव मे रहते थे।उसके बाद वो तिरुतनी गांव मे आकर बस गए।सर्वपल्ली गांव से आने के कारण वो अपने नाम के आगे सर्वपल्ली लिखने लगे।
प्रभावित-: राधकृष्णन ने स्वामी विवेकानन्द और वीर सावरकर को पढ़ा और उनके विचारों से प्रभावित हुए।
कार्यक्षेत्र -: उन्होंने देश के तीन विश्विद्यालयों मे अपनी सेवाएं प्रदान की-
1.वाइस चांसलर,आँध्रप्रदेश विश्वविद्यालय(1931-36)
2.चांसलर,बनारस हिन्दू विश्विविद्यालय(1939-48)
3.चांसलर,दिल्ली विश्वविद्…